Tuesday, March 5, 2024
HomeBusinessAdani Share Price: 2023 में अडानी के शेयर ने निवेशकों को दिया...

Adani Share Price: 2023 में अडानी के शेयर ने निवेशकों को दिया झटका, 2024 में कैसी रहेगी चाल, जाने यंहा

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

जब 2022 में Adani Share Price में तेजी आ रही थी, तब निवेशकों ने अदानी शेयरों से अच्छा मुनाफा कमाया था। अदानी स्टॉक एक समय में BSE और Nifty के पोस्टर बॉय बन गए थे। सार्वजनिक निवेश पर सवार अडानी समूह ने भी सकारात्मक भावनाओं के कारण बाजार से भारी धन जुटाया।

हालाँकि, अडानी शेयरों के लिए 2023 में चीजें नाटकीय रूप से बदल गईं। अडानी शेयरों में निवेशक, जो गौतम अडानी की व्यावसायिक कौशल पर दांव लगाकर आश्चर्यजनक रिटर्न कमाने के आदी थे, उन्हें 2023 में एक बड़ा झटका लगा जब अडानी समूह का संयुक्त बाजार पूंजीकरण लगभग 6 लाख करोड़ रुपये गिर गया

Adani Share Price: कैसे गए अर्श से फर्श पर

उल्लेखनीय है कि अडानी समूह की 10 कंपनियां शेयर बाजार में सूचीबद्ध हैं। 2022 के अंत में, सभी 10 सूचीबद्ध अडानी कंपनियों का कुल बाजार मूल्य 19.6 लाख करोड़ रुपये था जो दिसंबर 2023 में गिरकर 13.6 लाख करोड़ रुपये हो गया है। इस प्रकार, एक वर्ष की अवधि में कंपनी ने अपने बाजार का लगभग 30% मूल्यांकन खो दिया है.

adani share in 2023

विशेषज्ञों ने 2023 में Adani Share Price में कमी के कई कारण सूचीबद्ध किए हैं। हालांकि, मुख्य कारण जो हम बता सकते हैं वह यह है कि, जनवरी 2023 में, हिंडनबर्ग रिसर्च ने दो साल की जांच के निष्कर्ष जारी किए, जिसमें अडानी के खिलाफ बाजार में हेरफेर और लेखांकन कदाचार के गंभीर आरोप लगाए गए।

इस रिपोर्ट के परिणामस्वरूप अदानी-संबद्ध फर्मों के बांड और शेयरों में गिरावट आई, जिसके परिणामस्वरूप बाजार मूल्य में $104 बिलियन से अधिक का नुकसान हुआ, जो समूह के कुल मूल्य के लगभग आधे के बराबर है।

Adani Share Price: ऐसा रहा अडानी का प्रदर्शन

निवेशकों के लिए यह जानना अच्छा है कि 2023 के अंत तक, 10 अदानी शेयरों में से कई अदानी स्टॉक हिंडनबर्ग मुद्दे के बाद अपने कुछ नुकसान को भरने में कामयाब रहे हैं।

adani share loss

हालाँकि, उनमें से अधिकांश अपने निचले स्तर पर संघर्ष कर रहे हैं जैसे Adani Total Gas साल-दर-तारीख (YTD) आधार पर 74% नीचे बनी हुई है। यह स्टॉक, जो एक समय 4,000 रुपये के स्तर को छूने के काफी करीब पहुंच गया था, अब 1,000 रुपये के स्तर से ऊपर पहुंचने के लिए संघर्ष कर रहा है।

इसी तरह, Adani Energy Solutions के शेयर भी 61% YTD नीचे हैं। खाद्य तेलों और पैकेज्ड किराने के फॉर्च्यून ब्रांड के मालिक Adani Wilmar के शेयर ने वर्ष में अपने मूल्य का लगभग 44% खो दिया है।

समूह की दो सीमेंट कंपनियां – ACC और Ambuja Cementsहिंडनबर्ग मुद्दे से सबसे कम प्रभावित हुई हैं। जहां ACC करीब 15% नीचे है, वहीं Amubja को अपने मार्केट कैप का लगभग 6% ही नुकसान हुआ है।

यह देखकर अच्छा लगा कि Adani के लिए इस कठिन परिस्थिति में दो शेयरों ने अच्छा प्रदर्शन किया है। Adani Ports के शेयर में लगभग 24% की बढ़ोतरी देखी गई, जबकि Adani Power के शेयर ने 70% रिटर्न के साथ आश्चर्यचकित कर दिया।

Adani Share Price: 2024 में कैसा होगा मिज़ाज़

हिंडनबर्ग मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद हाल के दिनों में अडानी के शेयरों में कुछ तेजी देखी गई है। Adani Green Energy के शेयरों में पिछले एक महीने में 64% की तेजी आई है। विशेषज्ञ इस स्टॉक पर भरोसा दिखा रहे हैं क्योंकि कंपनी ने 2030 तक 45 गीगावाट हरित ऊर्जा क्षमता का लक्ष्य रखा है।

adani share in 2024

इसी तरह विशेषज्ञ Adani Ports के शेयरों के लिए भी अधिक मुखर हैं और 18 खरीदने की सलाह दे रहे हैं। वित्त वर्ष 2015 में यह शेयर बाजार हिस्सेदारी 14% से बढ़कर 26% हो गई है और विशेषज्ञों के अनुसार वित्त वर्ष 2025 तक इसके 30% से अधिक होने की उम्मीद है।

इसलिए 2024 के लिए, अडानी समूह में निवेश करने के इच्छुक किसी भी व्यक्ति को अपना पैसा लगाने से पहले सभी फायदे और नुकसान का सावधानीपूर्वक मूल्यांकन करना चाहिए। सभी निवेश निर्णय शेयर बाजार और स्टॉक की चाल निर्धारित करने वाले रुझानों के गहन विश्लेषण के बाद ही लिए जाने चाहिए।

Disclaimer: यहां दी गई सिफारिशें, सुझाव, विचार और राय केवल सूचना के उद्देश्य से हैं। यह किसी भी निवेश को बढ़ावा नहीं देता है।

ALSO CHECK: TATA Motors Share: 2023 का एक मात्र शेयर जिसकी दुगनी हुई कीमत, 2024 में कैसे रहेगी चाल, जाने यंहा

लोगों ने और क्या पूछा 

1. अडानी के साथ Carmichael Coal Mine Project मुद्दा क्या है?

2014 में, अडानी ने ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड के गैलिली बेसिन में Carmichael Coal Mine के नाम से एक विशाल खनन और रेल परियोजना शुरू की थी। कारमाइकल परियोजना को कई बाधाओं का सामना करना पड़ा। कार्यकर्ताओं के दबाव के कारण कई अंतरराष्ट्रीय बैंकों ने इसे वित्तपोषित करने से इनकार कर दिया।

shiv pratap
shiv prataphttps://universalnewstoday.com
My name is Shiv Pratap and I am the owner of universalnewstoday.com. I am a Post Graduate in Journalism. I have 15 years of experience of writing articles and covering events related to National, International, Sports and Business events. I believe in honest and transparent journalism.
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments